जीवन संगीत

आसमान बादल की चादर ओढ़े अपनी प्रिया धरा को एक टक निहार रहा था. धरा भी मिलन की आस में आसमान से मौन गुहार कर रही थी, तब उसे आसमान से दूरी और उसकी मजबूरी का खयाल ही नहीं रहा,तभी जोरों की आवाज़ से सिहर उठती है धरती, यह आसमान के हृदय की तड़प ही तो थी जिसे हम मानव बिजली का कड़कना और बादलों का गर्जना कहते हैं।धरा के मौन निमन्त्रण को गगन बखूबी समझता है।तभी तो मजबूर होकर उसके हृदय की पीड़ा छलक पड़ती है जिसे हम वर्षा कहते हैं बर्सात में खिड़की से आसमान को निहारते हुए प्राची अपने ही भावनाओं के सागर में गोते लगा रही थी कि तभी मोबाइल की घंटी बजी…..प्राची हमेशा की तरह जल्दी – जल्दी मोबाइल उठाई क्योंकि उसे पता था कि यह काॅल रोहित का ही होगा, यही क्यों उसे तो इतना भी पता था कि रोहित बोलेंगे आज थोड़ी देर हो जायेगी तुम खाना खाकर सो जाना।ठीक ऐसा ही हुआ,.उधर से रोहित ने कहा बहुत जरूरी मीटिंग में फँस गया था प्राची…. देर हो सकती है तुम खाना खाकर सो जाना… ।ठीक है तो पहले बताना था न मैं तो कुछ भी खा लेती, आपके लिये ही तो बनाया है मैंने.ओह डियर कल सुबह ब्रेक फास्ट में खा लेंगे न टेंशन मत लो. रोहित प्राची को थोड़ा मनाते हुए  बोला.हाँ और बोलोगे कि मैं तुम्हे बासी खाना खिलाती हूँ.ज्यादा देर मत करना.ओकेमोबाइल आॅफ करके प्राची फिर आसमान की तरफ़ देखने लगी और सोचने लगी कि धरती आसमान की तो दूरी और मजबूरी समझ में आती है लेकिन मैं और रोहित तो पास रहकर भी इतने दूर होते जा रहे हैं. क्या वाकई वजह काम है या फिर………. ओह नहीं नहीं मुझे अपने पति पर इतना शक नहीं करना चाहिए, आखिर बेचारे हम सभी के लिए ही तो इतना मेहनत करते हैं और एक मैं हूँ कि……. सच कहते हैं सभी, स्त्रियों का स्वभाव ही शकी होता है. लेकिन यह भी तो सही है कि जहाँ अधिक प्रेम होता है वहाँ शक पैदा हो ही जाता है. क्यों अपने-आप को भी कोसूँ सोचती हुई प्राची टेबल पर रखे हुए गिलास का पूरा पानी गटक गई. तभी फिर मोबाइल रिंग किया, इस बार भी प्राची समझ गई थी कि जरूर माँ का फोन होगा क्योंकि रोज रात को साढ़े नौ बजे मैं माँ से जरूर बातें कर लेती थी और आज…… हेले अम्मा कैसी हो? ठीक हूँ तुम खाना खा ली. हाँ अम्मा…. प्राची झूठ बोल दी क्योंकि उसे पता था कि अगर सच बोल देती तो अम्मा दस और सवाल दाग देतीं और शुरू कर देतीं अपना प्रवचन. अच्छा क्या खाई? कितना पूछती हो अम्मा तुम बताओ तुम क्या खाई. और कब आ रही हो.?कैसे आऊँ बेटी स्कूल से छुट्टी मिलती ही नहीं है,. इस बार भी गर्मी की छुट्टियों में एक्स्ट्रा क्लास लेना है तुम दोनों ही आ जाओ न तुम्हारा भी मन बदल जायेगा. कैसे आयें अम्मा रोहित को तो फुर्सत ही नहीं है और तुम्हीं तो हमेशा कहती रहती हो कि रोहित को अकेले मत छोड़ना वर्ना मैं तो अकेले आ ही जाती . नहीं – नहीं अकेले मत छोड़ना प्राची की अम्मा आदेशात्मक अंदाज में कही क्योंकि उसे हमेशा ही यह डर सताता था कि जो उस पर गुजरी है वह उसकी बेटी पर कतई नहीं गुजरे. प्राची के पापा भी तो मुझे कम प्यार नहीं करते थे लेकिन न जाने कौन सी मनहूस घड़ी थी कि मैं प्राची को पढ़ाने के लिए एक लेडी टीचर रख दी. मेरी अम्मा को भी उसी समय बीमार होना था. दो ही महीने के लिए ही तो गई थी और उसी में ….. काश कि न गई होती तो आज प्राची के पिता उस टीचर के साथ नहीं मेरे साथ होते सोचते हुए प्राची की अम्मा के आँखों के कोरों से दो बूँद आँसू के छलकने को थे कि तभी उसने अपनी आँचल के कोरों से पोछ लिया. तो अम्मा तुम्हीं बताओ मैं क्या करूँ? क्या हुआ अम्मा अचानक चुप क्यों हो गई..? अरे कुछ नहीं तेरी मौसी का काल आ रहा है तुम फोन काट दो. प्राची की अम्मा झूठ बोलकर फोन काट दी अपने कांटेदार अतीत में भ्रमण करने लगी. ठीक है अम्मा मैं भी जाती हूँ अब बच्चों से बात करने. प्राची बेटे को काॅल करने लगी लेकिन उधर से आवाज आ रही थी द डायल नम्बर इज नाॅट रिचेबुल… प्राची मन में भुनभुनाये जा रही थी जरूर वीकेंड में बाहर घूमने निकल गया होगा, बच्चे बाहर निकले नहीं कि बेलगाम घोड़ा बन जाते हैं,. गुस्से में वह अपनी रोज की रुटीन की तरह ही अपनी बेटी कै काॅल की. मम्मा मैं एक फ्रेंड के साथ हूँ थोड़ी देर बाद काॅल करती हूँ. प्राची को पता है कि फ्रेंड्स के साथ होने पर मैडम का थोड़ी देर कब आयेगा. किसी को मेरी फिक्र नहीं सभी का फिक्र मैं ही करूँ. मन ही मन भुनभुनाती हुई प्राची बिस्तर पर लेट गई. नींद उसकी आँखों से कोसों दूर थी .  प्रतीक्षा की घड़ी काटे नहीं कट रही थी. तभी दरवाजे की घंटी बजी तो वह बिजली की तरह भागे गई और दरवाजा खोल दी. हाथ – मुंह धो लो खाना लगाती हूँ. मैंने कहा था न खा लेना फिर भी…. मुझे भूख नहीं है काफी थक गया हूँ. ए सी आॅन है न? हाँ.  रोहित इतना थका  था कि बिस्तर पर जाते ही उसे नींद अपने आगोश में ले ली और प्राची की वह भी रात अधिकांश रातों की तरह करवटों में कटी । प्राची सुबह उनींदी सी उठी और जैसे ही उसकी नज़र कैलेंडर पर पड़ी उसे याद आया कि आज तो हमरी मैरिज एनिवर्सरी है. वह जल्दी – जल्दी वार्डरोब से गुलाबी सूट निकालकर बाथरूम की तरफ़ भागी और फ्रेश होकर कपड़े बदल ली. गमले में लाल गुलाब खिला हुआ था सोची कि आज गुलाब के साथ पति को चाय सर्व करूंगी. वैसे तो प्राची और रोहित के विवाह के बीस वर्ष पूरे हो चुके थे लेकिन वह जब उस दिन वह गुलाबी सूट में सब आइने के सामने खड़ी हुई तो पीछे से रोहित को देख कर उसकी आँखें यूँ शरमाई जैसे वह नव विवाहिता हो. लेकिन अगले ही पल वह धीर – गम्भीर पौढ़ा स्त्री हो गई जब रोहित ने उसे देखकर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. फिर भी वह हिम्मत नहीं हारी और गुलाब के साथ दो कप चाय लेकर आई. आपको तो काम के चक्कर में हमारी मैरिज एनिवर्सरी भी याद नहीं है न. ओह प्राची अब कौन सी हमारी नई – नई शादी हुई है यह सब दिखावा वही करते हैं जिसके पास कोई काम नहीं होता और अपने रिश्तों पर भरोसा नहीं होता. मैं तो तुम्हारा ही हूँ. अच्छा अच्छा ठीक है तो जब मेरे हैं तो मंदिर तो चल ही सकते हैं न? नहीं प्राची तुम ड्राइवर के साथ चली जाओ मुझे किसी जरूरी मीटिंग के लिए निकलना है जाने में करीब दो ती घंटे लग जायेंगे उसमें भी अगर कहीं ट्रेफिक का प्राब्लम हो गया तो……… तुम तैयार रहना हम शाम को जरूर मूवी देखने चलेंगे. उस समय भी प्राची एक समझदार पत्नी की तरह अपनी इच्छाओं को मन में ही दफ़्न कर हमेशा की ही तरह होठों पर कृत्रिम मुस्कान बिखेर दी. वह नहीं चाहती थी कि मेरी वजह से रोहित को कोई परेशानी हो. प्राची प्रतीक्षा कर रही थी और हर बार की तरह इस बार भी रोहित समय पर नहीं आया. प्राची रोहित के मोबाइल पर रिंग करने लगी लेकिन उधर से आउट आफ रेंज बता रहा था थक हार कर प्राची रोहित को एक मैसेज छोड़कर दुखी मन से अकेली ही मूवी देखने चली गई. मूवी तो अच्छी थी लेकिन प्राची का मन मूवी देखने में नहीं लग रहा था क्योंकि एक तो उसे रोहित की प्रतीक्षा थी और दूसरे उसकी बगल वाले सीट पर एक अविवाहित जोड़ा बात करके उसकी तंद्रा भंग कर देते थे. बीच-बीच में वह एक दो बार उस जोड़े को टोकी भी लेकिन कुछ दे चुप्पी के बाद वे फिर बातें करने लगते थे इसलिए वह थक हार कर टोकना छोड़ दी और मूवी की बजाय वह उन दोनो की बातें सुनने लगी. फिल्म के इंटरवल में प्राची उन दोनों जोड़ी से औपचारिक बातें करने लगी और बातों-बातों में वह उनसे इतना प्रभावित हो गई कि उनकी सहायता करने के लिए  मिलने को अपने घर आमन्त्रित कर दी. अब एक जोड़ी को इससे अधिक और क्या चाहिये इसलिये जोड़ी ने सधन्यवाद, सहर्ष स्वीकार कर लिया. 
जब प्राची के घर जोड़े पहुंचे तो प्राची को लगा कि जैसे पतझड़ में बसंत का आगमन हो गया हो. वह उन दोनों को अपने गेस्ट रूम में छोड़ कर सोचते – सोचते अपने अतीत में चली गई. उसने भी तो कभी किसी से प्यार किया था. तब मन हमेशा ही अपने प्रेमी से मिलने के लिए एक सुरक्षित कोना ढूढता था जो कि बामुश्किल ही मिलता था और मिलने पर हमेशा ही यह डर सताता था कि कहीं कोई देख न ले. उसे अपना प्यार हासिल न हो सका जिसकी कसक उसके मन में आज तक है. शायद इसीलिए वह उनकी मदद करने का मन बना ली थी क्योंकि दर्द वही महसूस कर सकता है जिसने दर्द झेला हो. अब जोड़ी हफ्ते में एक या दो बार तो प्राची के घर आ ही जाया करती थी इसीलिए प्राची का अकेलापन कुछ हद तक दूर हो गया. अब प्राची को उन दोनों से धीरे-धीरे इतना अपनापन बढ़ने लगा कि वह उसके परिवार की तरह हो गये . जोड़े मे लड़का नितेश अनाथ था तो उसे प्राची में अपनी माँ नज़र आने लगी इसलिए वह उसकी कोई भी बात नहीं टालता था. लड़की शिखा की माँ थी जो कि शिखा के विवाह के लिए एक सपनो का राजकुमार ढूढने का सपना देख रही थी इसलिए शिखा अपनी माँ से अपने प्रेम की बात कहने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही थी. तभी एक दिन अचानक शिखा की माँ एक लड़के की तस्वीर और बायोडाटा दिखाते हुए बोली कि देखो मुझे तो यह लड़का तुम्हारे लिए बहुत सही लग रहा है तुम मिल लो. शिखा – क्या ममा शादी की इतनी जल्दी भी क्या है अभी तो मुझे जाॅब छोड़कर मास्टर डिग्री लेनी है. देखो बेटा वह सब करते रहना अच्छे लड़के बड़े मुश्किल से मिलते हैं तबतक इंगेजमेंट तो कर ही सकते हैं न ताकि तुम दोनो एक – दूसरे को अच्छी तरह से जान समझ सको. शिखा जब देखी कि माँ उसकी एक न सुनने वाली हैं तो वह उससे नितेश के बारे में बताई. क्या करता है लड़का और कहाँ का है, उसके माँ बाप क्या करते हैं? लगातार शिखा की माँ प्रश्नों की झड़ी लगा दी. शिखा – लड़का अनाथ है और बी टेक करके अभी – अभी एक कम्पनी में  नौकरी ज्वाइन किया है. क्या अनाथ..? शिखा की माँ चिल्ला पड़ी। हाँ माँ नितेश बहुत अच्छा लड़का है और वह मुझे खुश भी रखेगा एक बार तुम उससे मिल तो लो. नहीं कुछ भी हो जाये मैं अपनी बेटी की शादी एक अनाथ लड़के से नहीं कर सकती. शिखा मायूस हो गई और अपनी माँ से बोल दी कि ठीक है ममा फिर मुझे कहीं भी शादी ही नहीं करनी है. प्राची के घर फिर दोनों मिलने आते हैं लेकिन इस बार शिखा की आँखों में उदासी के काजल लगे हुए थे. प्राची उसके मन के भावों को पढ़ ली थी इसीलिए पूछ भी ली क्या हुआ शिखा तबियत तो ठीक है न? हाँ दी बस कल मम्मा से बकझक हो गई. क्या? वो बस मेरी शादी करने के लिए एक लड़के से मिलने की जिद्द कर रही थीं. तो तुमने क्या कहा? मैंने तो साफ़ – साफ़ नितेश के बारे में बता दिया लेकिन……. लेकिन क्या? नितेश और शिखा दोनो एक साथ प्रश्न कर बैठे? वो इन्कार कर दीं पर मैंने भी साफ़ कह दिया कि अगर नितेश से शादी नहीं करूंगी तो किसी से भी नहीं करूंगी भले ही आजीवन कुंवारी रह जाऊँ. अरे ऐसे – कैसे कुंवारी रह जाओगी? तुम दोनों की शादी होकर रहेगी, मैं हूँ न… तुम्हारी मम्मी को मैं मनाऊँगी.. प्राची एकाएक बड़े ही आत्मविश्वास के साथ बोल पड़ी. शिखा की आँखों में खुशी के आँसू छलक आये और वह प्राची के गले से लिपट गई. प्राची बोली तुम अपनी मम्मी से मुझे मिलवाओ. ओ के दी शिखा अपनी मम्मा और प्राची की मीटिंग करवा दी. शिखा के द्वारा आज की जेनरेशन का हवाला देकर बहुत समझाने के बाद शिखा की माँ अनमने ढंग से ही उन दोनों के विवाह के लिए राजी हो गई. अब शिखा और नितेश के मन में प्राची के लिए और भी सम्मान का भाव पनपने लगा. दोनों का इंगेजमेंट हो गया. नितेश की तरफ से नितेश की दीदी और माँ की भूमिका में प्राची ही थी इसीलिए नितेश के लिए प्राची दुनिया की सर्वश्रेष्ठ महिला लगने लगी. अब नितेश की बातों में हमेशा ही प्राची की तारीफ होती जिससे सहमत होते हुए भी कभी-कभी शिखा का स्त्री मन आहत  होता क्यों कि आमतौर स्त्री हो या पुरुष अपने प्रेमी या प्रेमिका से सिर्फ अपनी ही तारीफ़ सुनना चाहते हैं इसलिए किसी और का बखान सुनकर हृदय के चूल्हे में ईर्ष्या की चिनगी सुलगना स्वाभाविक ही है भले ही प्रेमी प्रेमिका या पति – पत्नी इस भाव को व्यक्त नहीं करें. नितेश प्राची के हर कार्य में तत्पर रहता वो चाहे शापिंग कराने का हो, बैंक जाना हो, या फिर हास्पिटल आदि का. एक तरह से प्राची को एक भाई मिल गया और नितेश को एक माँ के रूप में बड़ी बहन जो कि जिंदगी के हर मुश्किल घड़ी में एक गाइड का काम करती. नितेश और शिखा के विवाह का डेट फाइनल हो गया और शुरु हो गई शादी की तैयारी. अब चाहे ज्वैलरी खरीदनी हो या फिर साड़ी – लहंगा हो या फिर वेडिंग के अन्य डिसीजन नितेश के साथ हमेशा प्राची होती. प्राची को इन सभी कामों में मन लगता था फिर भी वह ड्रेस और ज्वैलरी का डिजाइन शिखा को दिखा कर उसकी पसंद जानकर ही उसके लिए कुछ लेती थी. प्राची और नितेश तो सब शिखा के लिए ही करते लेकिन शिखा के मन के कोने में यह तो लगता ही था कि मेरी पसंद तो नितेश भी पूछ सकता था. इन सब बातों से अनजान प्राची उनके विवाह की तैयारी में मशगूल थी. अगले दिन शिखा का जन्मदिन था नितेश प्राची को लेकर ही तनिष्क के शो रूम में गया और शिखा के लिए एक इयर रिंग खरीद लिया. खरीदते समय उसकी कल्पना में शिखा का इयर रिंग पहने चेहरा मन मोह रहा था. वह सोच रहा था कि अचानक जब मैं शिखा को सरप्राइज दूंगा तो कितनी खुश हो जायेगी. शो रूम से बाहर आकर प्राची जैसे ही रोड क्रास करना चाही एक तेज चलती हुई गाड़ी से उसे धक्का लग गया और वह जा गिरी. खून से लतपथ उसे देखकर नितेश की तो जान ही निकलने लगी. वह जोर जोर से चिल्लाने लगा दी एक तुम ही तो मेरी जिन्दगी में अपनी थी मैं तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगा. तुम्हें  ठीक होना ही होगा , तुम्हें ही तो मेरी शादी करवानी है. नितेश अपने-आप को सम्हालते हुए प्राची के पति को काॅल कर दिया और प्राची को लेकर सीधे हास्पिटल पहुंच गया.डाॅक्टर अपने काम में लगे थे और वह मन ही मन भगवान से प्रार्थना करने लगा कि मेरी दी को किसी भी कीमत पर बचा लो. मेरे पास मेरी दी के अलावा इस दुनिया में अपना कोई नहीं है. तभी नर्स बाहर आई और बोली खून अधिक बह जाने से पेशेंट बेहोश हो गई थी आपका खून मैच कर गया है अब पेशेंट खतरे से बाहर है. थैंक्स गाॅड नितेश के मुख से अचानक निकल गया आखिर कैसे न खून मिलता मैं प्राची दी का भाई हूँ. इधर प्राची और नितेश खून के रिश्तों में बंध रहे थे और उधर शिखा के जन्मदिन पर नितेश के अनुपस्थित होने पर शिखा का दिल का टूट रहा था. नितेश को जब याद आई तो रात के साढ़े बारह बज चुके थे. उसने अपना मोबाइल निकाला तो देखा उसका स्विच आॅफ है. वह हड़बड़ा कर वह प्राची के मोबाइल से शिखा को स्थिति बताने के लिए फोन करना चाहा लेकिन  शिखा मोबाइल नहीं उठाई. फिर वह अगले दिन अपना मोबाइल चार्ज करके बात करना चाहा फिर भी शिखा गुस्से से मोबाइल नहीं उठाई. ऐसे ही तीन – चार दिन बीत गये. नितेश ने बहुत सारा मैसेज किया लेकिन कोई उत्तर नहीं आया क्योंकि गुस्से से शिखा मैसेज भी नहीं देखी. सोच रही थी माँ ठीक ही कह रहीं थीं. मैं शादी के लिए कुछ ज्यादा ही जल्दबाजी कर दी. अब तो सोचना पड़ेगा. अभी से ये हाल है तो शादी के बाद तो और भी…… इधर शिखा नकारात्मकता के अंधेरे में घिरी जा रही थी और उधर नितेश प्राची की सेवा में लगा था. जब प्राची स्वस्थ हुई तो वह नितेश से पूछी इयर रिंग शिखा को पसंद आई? अभी तो मैंने उसे दिया ही नहीं दी नितेश बोला. अब तक नहीं दिया यह तो तुमने गलत किया और शिखा आई भी नहीं उसे पता नहीं है क्या मेरी तबियत के बारे में. नहीं दी दर-असल उस दिन मैंने उसे बताया ही नहीं कि खामखा वह अपने बर्थ-डे के दिन परेशान हो जाती. तो दूसरे दिन बता देते. कैसे बताता दी वो मोबाइल उठाये तब तो नितेश मन ही मन बोला लेकिन ऊपर से मौन रहा. अच्छा तो तुम मेरी सेवा का सारा क्रेडिट खुद लेना चाहते थे न? लाओ मैं उसे काॅल करती हूँ. प्राची शिखा का नम्बर डायल की उधर से शिखा का आवज आया नमस्ते दी कैसी हैं? चुपचाप तुम सीधे घर आ जाओ अब मैं तुमसे सेवा करवाऊँगी. क्या हुआ दी? आओ तो. आती हूँ दी. शिखा जल्दी – जल्दी तैयार होकर प्राची के घर गई. प्राची के घर  नितेश को पहले से ही देख कर उसका गुस्सा और भी बढ़ गया इसलिए नितेश की तरफ से उसने अपनी नज़रें फेर ली और सीधे प्राची के कमरे में चली गई. प्राची के कमरे में जाते ही उसे अपने-आप पर गुस्सा आने लगा. उसकी नज़र में नितेश का कद और भी बढ़ गया और वह अपने-आप को बहुत छोटा महसूस करने लगी. बाहर आकर नम आँखों से नितेश से आँखों ही आँखों में माफ़ी माँगने लगी. नितेश उसे बांहों में भरकर गले से लगा लिया और उसे इयर रिंग थमाते हुए माथे पर एक चुंबन जड़ दिया. दोनों के सांसों की सरगम में जीवन संगीत बज उठी. और प्राची के मन के आँगन में शहनाई गूँज उठी.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s