कहतीं हैं चित्कार कर

कहतीं हैं चित्कार कर , सूनी – सूनी गोद ।
एक – एक की तुम यहाँ , शिघ्र कब्र दो खोद।

पढ़ना जारी रखें “कहतीं हैं चित्कार कर”

शिघ्र उगो तुम चन्द्रमा

शिघ्र उगो तुम चन्द्रमा, आज करो मत रार |
दूंगी मैं तुमको अरघ, कर सोलह श्रृंगार |

पढ़ना जारी रखें “शिघ्र उगो तुम चन्द्रमा”

आज अचम्भित बेटियाँ

आज. अचम्भित बेटियाँ , प्रश्न रहीं हैं पूछ |
लड़के वाले क्यों भला , ऐंठ रहे हैं मूछ |

पढ़ना जारी रखें “आज अचम्भित बेटियाँ”