आया सर्दी का मौसम

आया सर्दी का मौसम।

खिली धूप देखो थम – थम
आया सर्दी का मौसम।

ठन्डी – ठन्डी हवा बही
डोल – डोल कर मतवाली
लहराती अपना परचम
आया सर्दी का मौसम।

लगा ठिठुरने अम्बर धरती
गर्मी दुबकी आहें भरती
लगे निकलने कपड़े गर्म
आया सर्दी का मौसम

रात बड़ी हो अड़ी रही
दिन से दिल की बात कही
देखें किसमे कितना दम
आया सर्दी का मौसम

समय सभी का आता है
तभी भाग्य लड़ जाता है
नहीं किसी से कोई कम
आया सर्दी का मौसम।

छोड़ो भइया व्यर्थ लड़ाई
चलो निकालें नर्म रजाई
ओढ़ चैन से सोये हम
आया सर्दी का मौसम

नीले – नीले आसमान में,

नीले – नीले आसमान में, देखो सूरज दमक रहा है। 

हीरे और सोने के जैसा , चम चम चम चम चमक रहा है।

बोले बिट्टू राजा हठ कर, मम्मी मुझको नहला दो। 

कोई क्रीम लगाकर मुझको , सूरज जैसा चमका दो। 

मम्मी बोली ओ के बेटा, बात सुनो पहले मेरी । 

पढ़ो लिखो जी जान लगाकर, तो होगी इच्छा पूरी। 

बिट्टू बोले झूठ बोलकर, मुझे न माँ यूँ बहलाओ। 

पढ़ – लिख कर कैसे चमकूंगा, सही – सही तुम समझाओ। 

मम्मी लाई दूध ग्लास में, बोलीं बेटा लो पी लो। 

सभी बात को बे मतलब का, तुम इतना भी मत छीलो। 

बिट्टू राजा समझ-बूझ कर, खुद करने लगे पढ़ाई। 

सारे जग में फिर उनकी भी, लोगों ने किया बड़ाई। 

मम्मी उनको गले लगाकर, बोली तू ही सूरज है। 

मेहनत का फल होता मीठा, यह नहीं झूठ अचरज है। 

गोलू मोलू बबलू डबलू

गोलू मोलू बबलू डबलू खेल रहे थे बाॅल
आयीं आंटी बीच में तो उड़ गई उनकी शाॅल

पढ़ना जारी रखें “गोलू मोलू बबलू डबलू”